IPS Full Form In Hindi | IPS कैसे बने, योग्यता, और सैलरी

दोस्तों क्या आप भी IPS अधिकारी बनने में रूचि रखते है, क्या आप भी IPS Full Form In Hindi और English में जानना चाहते है तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े क्योकि इस लेख में हम आईपीएस का फुल फॉर्म और Ips Officer Banne Ki Puri Jankari देने वाले है।

आईपीएस क्या होता है (IPS Kya Hota Hai)

आईपीएस नागरिक सेवाओं और सिविल सर्विस के सबसे प्रतिष्ठित पद में से एक होता है। यह एक प्रशासनिक अधिकारी होता है, जो कि कानून व्यवस्था को बनाए रखने और सिविल सर्विस से जुड़े हुए कार्य को नियंत्रित रखने का काम करते हैं।

आमतौर पर आईपीएस एक इंडियन पुलिस सर्विस होती है, यह जिला पुलिस सर्विस का सबसे बड़ा अधिकारी पद होता है। आईपीएस ऑफिसर द्वारा किसी भी तरह के दुर्घटना, अपराध या यातायात प्रबंध जैसे इत्यादि कार्य किए जाते हैं।

आईपीएस का मतलब क्या होता है

आईपीएस का मतलब इंडियन पुलिस सर्विस यानी कि भारतीय पुलिस सेवा होता है। आईपीएस भारतीय प्रशासनिक सेवा का एक महत्वपूर्ण पद होता है, जिसे एसपी (SP) भी कहा जाता है। और इस पद पर कार्य करने वाले पुलिस अधिकारी को आईपीएस ऑफिसर कहा जाता है।

यह सिविल सर्विस के सबसे महत्वपूर्ण पद में से एक होता है, जो कि देश की कानून व्यवस्था को बनाए रखने का काम करता है। और देश में होने वाले क्राइम को रोकने का भी काम करता है।

हमने यह तो जान लिया कि आईपीएस क्या होता है, और इसका मतलब क्या होता है। तो चलिए अब IPS Full Form In Hindi के बारे में जानते हैं।

IPS Full Form In Hindi (आईपीएस का फुल फॉर्म)

IPS Ka Full Form ‘Indian Police Service‘ होता है। और IPS Full Form In Hindi अर्थ ‘भारतीय पुलिस सेवा‘ होता है। 

आईपीएस गृह मंत्रालय के अधीन आता है और इसकी स्थापना करीबन सन 1948 में हुई थी। पहले के समय में IPS को Indian Imperial Police के नाम से जाना जाता था।

परंतु सन् 1948 में इसे बदलकर Indian Police Service यानी कि IPS रख दिया गया। तब से लेकर आज तक इस पुलिस सर्विस को IPS के नाम से ही जाना जाता है।

IPS Ka Kya Kam Hota Hai (आईपीएस ऑफिसर का काम क्या होता है?)

जैसा कि हमने आपको IPS Ka Full Form में बताया कि इसका मतलब Indian police service होता है।

तो आपको इसके नाम से ही समझ में आ रहा होगा कि यह एक पुलिस सेवा है, जिसके अंतर्गत जिले से संबंधित सभी तरह के कार्य जैसे कि दुर्घटना, अपराध, दंगे, यातायात जिम्मेदारी, प्रशासन व्यवस्था, कानून व्यवस्था, इत्यादि चीजों को नियंत्रण करना होता है।

दूसरे शब्दों में कहें तो आईपीएस ऑफिसर एक पूरे जिले का मालिक होता है, जिसे पूरे जिले की जिम्मेदारी सौंपी जाती है। इसीलिए एक आईपीएस ऑफिसर का मुख्य काम जिले के अंतर्गत होने वाले सभी तरह के कामों को नियंत्रित और व्यवस्थित बनाए रखना होता है।

IPS Banne Ke Liye Kya Karna Padta Hai

वर्तमान समय में Ips Ke Liye Kya Karna Padta Hai यह जानने योग्य बातें में से एक है।

आपको बता दें कि आईपीएस बनने के लिए सरकार द्वारा आयोजित किए गए एग्जाम को क्लियर करना होता है और एग्जाम को दिलाने के लिए योग्यता, उम्र सीमा और सिलेक्शन प्रोसेस आदि को फॉलो करना होता है।

तो आइए Ips Officer Banne Ki Puri Jankari के बारे में जानते हैं- 

IPS कैसे बने ( IPS Kaise Bane )

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए एग्जाम, योग्यता, उम्र सीमा और ऊंचाई इन सभी चीजों का विशेष रूप से ध्यान रखना होता है। जिसके बारे में अधिक जानकारियां निम्नलिखित है- 

  • Exam:

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए सबसे पहले एग्जाम दिलाना होता है। एग्जाम दिलाने के लिए सरकार द्वारा आयोजित किए गए UPSC एग्जाम फॉर्म को भरना होता है, जिसके बाद दो परीक्षाएं होती हैं, पहला प्रारंभिक परीक्षा और दूसरा मुख्य परीक्षा।

फॉर्म भरने के बाद सबसे पहले आपको प्रारंभिक परीक्षा दिलाना होता है, जिसे क्लियर करने के बाद ही आपको मुख्य परीक्षा दिलाने का अवसर मिलेगा। और मुख्य परीक्षा क्लियर करने के बाद हि आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा, जिसे क्लियर कर लेने के बाद आप एक आईपीएस ऑफिसर बन सकते हैं।

  • योग्यता:

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए योग्यता का भी विशेष रूप से ध्यान रखना होता है, जोकि निम्नलिखित है- 

  • सबसे पहले आपका किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन कंप्लीट होना चाहिए।
  • किसी भी स्ट्रीम से आपकी ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।
  • UPSC द्वारा आयोजित किए गए दोनों परीक्षाओं को अच्छे अंको से पास होना होता है, और इंटरव्यू को भी क्लियर करना होता है।
  • उम्र सीमा:

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए उम्र सीमा का भी विशेष रूप से ध्यान रखना होता है। एक आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए उम्र सीमा 21 साल से लेकर के 27 साल निर्धारित की गई होती है। वहीं पर OBC, ST, SC  कैटेगरी वाले लोगों के लिए उम्र सीमा में कुछ छूट दी गई होती है। OBC कैटेगरी वाले लोगो के लिए उम्र सीमा में करीबन 3 साल की छूट दी गई होती है, और ST/SC कैटेगरी वाले लोगों के लिए उम्र सीमा में 5 साल की छूट दी गई होती है।

इसके साथ ही साथ सामान्य वर्ग के लोग यूपीएससी की परीक्षा के व्यवहार में दे सकते हैं जबकि एसटी कैटेगरी के लोगों को यूपीएससी परीक्षा नवभारत दिलाने का मौका मिलता है।

  • उंचाई:

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए यदि ऊंचाई यानी कि हाइट की बात करें, तो यह पुरुष उम्मीदवारों और महिला उम्मीदवार दोनों के लिए अलग-अलग होता है। एक आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए पूरे उम्मीदवार की हाइट करीबन 165 सेंटीमीटर होनी चाहिए और महिला उम्मीदवार की हाइट करीबन 150 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

आईपीएस सैलरी (Salary Of IPS Officer)

Ips Information In Hindi के अंतर्गत अब जानते हैं कि एक आईपीएस ऑफिसर की सैलरी कितनी होती है। आपको बता दें कि एक आईपीएस ऑफिसर की शुरुआती सैलरी करीबन 56,000 रुपये के आसपास होती है। और समय के साथ साथ पोस्ट बढ़ने पर सैलरी भी बढ़ती रहती है, जोकि बढ़कर करीबन 2,25,000 रूपए तक हो सकती हैं।

आईपीएस अधिकारी के लिए भर्ती

आईपीएस अधिकारियों की भर्ती मुख्य रूप से तीन तरीके से की जाती है, जो कि निम्नलिखित हैं-

  1. सबसे पहला यूपीएससी द्वारा आयोजित किए गए सिविल सर्विस परीक्षा के माध्यम से।
  2. दूसरा यूपीएससी द्वारा आयोजित किए गए सीमित प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से।
  3. और तीसरा राज्य पुलिस द्वारा पद्मावती प्राप्त पुलिस कर्मियों में से एक को चुना जाता है।

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए आयोजित किए गए सभी परीक्षाओं को पास करने के बाद उन्हें ट्रेनिंग के लिए हैदराबाद भेजा जाता है। और ट्रेनिंग कंप्लीट होने के बाद उम्मीदवारों को सीधा आईपीएस अधिकारी के पद पर नियुक्त किया जाता है।

आईपीएस की शक्तियां और जिम्मेदारियां

यदि एक आईपीएस ऑफिसर के पावर की बात करें तो वे अपने जिले के अंतर्गत होने वाले सभी तरह के कामकाज के प्रभारी होते हैं। और वे अपने इलाके के कानून व्यवस्था और शांति व्यवस्था को बनाए रखने के लिए किसी भी तरह के फैसले लेने में सक्षम होते हैं।

एक आईपीएस ऑफिसर की मुख्य जिम्मेदारी अपने क्षेत्र के लोगों को सुरक्षा प्रदान करना होता है।और अपने क्षेत्र में होने वाले सभी तरह के प्राइम को रोकना होता है।

IAS Vs IPS In Hindi

वैसे तो IAS और IPS बनने के लिए एक ही एग्जाम दिलाना पड़ता है। परंतु इन दोनों पदों में काफी अंतर देखने को मिलता है। एक IAS ऑफिसर का कोई भी ड्रेस कोड नहीं होता है, बल्कि IPS ऑफिसर का एक निश्चित यूनिफॉर्म होता है।

IAS ऑफिसर बनने पर मेडल से सम्मानित किया जाता है और IPS ऑफिसर बनने पर स्वॉर्ड ऑफ ऑनर अवॉर्ड से सम्मानित किया जाता है। एक IAS ऑफिसर के साथ एक से दो बॉडीगार्ड तैनात रहते हैं, और वही एक IPS ऑफिसर के साथ पूरी पुलिस को रहती है।

इन दोनों ऑफिसर की 3 साल की ट्रेनिंग LBSNAA में होती है। परंतु एक IPS ऑफिसर को इस 3 साल की ट्रेनिंग के बाद SVPNPA हैदराबाद भेज दिया जाता है, वहां पर इनकी कड़ी ट्रेनिंग होती है। जिसके अंतर्गत इन्हें गन फायरिंग, परेड, हथियार चलाना और घुड़सवारी जैसे इत्यादि फिजिकल और मेंटल ट्रेनिंग दिए जाते हैं।

ये भी पढ़े:

आईपीएस फुल फॉर्म से जुड़े पूछे जाने वाले प्रश्न

IPS Ko Hindi Mein Kya Kahate Hain

IPS को हिंदी में भारतीय पुलिस सेवा कहते हैं।

आईपीएस का फुल फॉर्म क्या है?

आईपीएस का फुल फॉर्म Indian Police Service होता है।

आईपीएस का मतलब क्या होता है?

आईपीएस का मतलब इंडियन पुलिस सर्विस होता है, जो कि कानून व्यवस्था को बनाए रखने का काम करते हैं।

भारत में कितने आईपीएस हैं?

भारत में कुल 900 आईएएस ऑफिसर है।


Leave a Comment