लेजर का आविष्कार किसने किया था?

दोस्तों क्या आपको पता है की लेज़र का अविष्कार किसने किया था, अगर नहीं तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े यहां हमने लेज़र के बारे में सम्पूर्ण जानकारी साझा की है।

लेजर क्या है?

Laser का फुल फॉर्म अंग्रेज़ी में Light Amplification By Stimulated Emissions Of Radiation होता है जिसको हिंदी में विकिरण के उद्दीप्त उत्सर्जन द्वारा प्रकाश का प्रवर्धन कहते है।

लेजर एक ऐसा प्रोसेस है जिसमें प्रेरित उत्सर्जन की मदद से एक सीधी रेखा में किरणे उत्सर्जित किया जाता है।

यह एक विद्युतचुम्बकीय विकिरण है जो कि प्रत्यक्ष वर्णक्रम से चलती है। लेजर की किरणें बिना फैले एक सीधी रेखा में चलती रहती है और बिना किसी वस्तु से टकराए अगर आप इसके किरणों को बहुत दूर तक पहुंचना चाहते है तो भी ये आसानी से चली जाती है।

लेजर का आविष्कार किसने किया था? (Laser Ka Aviskar Kisne Kiya Tha)

लेजर का आविष्कार Theodore Maiman (थिओडोर हैरोल्ड मैमन) द्वारा किया गया था उनका यह एकमात्र आविष्कार एक संयोग द्वारा ही हुआ था।

जब थियोडोर अपनी प्रयोगशाला में कैमरे के साथ कार्य कर रहे थे तो कैमरे की कुंडली में एक माणिक्य का टुकड़ा रखने पर लाल रंग की प्रकाश किरण निकल रही थी, जिसको देखने के बाद उन्होंने इसके ऊपर गहरा अध्ययन करना शुरू कर दिया और उन्होंने देखा बल्ब के फ्लैश से बेलन आकर का किरण उत्पन्न करना बहुत ही आसान है और इससे उर्जा भी उत्पन्न होगी।

फिर इसके बाद लेजर का आविष्कार किया गया जिसमें शुद्ध लाल रंग की प्रकाश उत्सर्जित होती, तरंगों के समान अंतराल से प्रवाहित एक सीधी लाइन में चलती नजर आती है।

लेजर का आविष्कार कब हुआ था?

लेजर का आविष्कार 1960 में एक बड़े अमेरिकी भौतिक विज्ञानी थियोडोर एच मैमेन द्वारा किया गया था। और इन्होंने लेजर के बारे में अच्छे से पढ़ कर लोगों को समझाया था कि यह एक एकदिश किरण है।

लेजर का इस्तेमाल कहा होता है?

लेजर का उपयोग निम्न जगह पर होता है:

  • वैज्ञानिक प्रयोगशालाओं में।
  • डीवीडी के प्रकार में और प्रिंटर में।
  • सुरक्षा और सैन्य क्षेत्र में वायुयान को दिशा दिखाने में।
  • तोप और बंदूक के लक्ष निर्धारित करने में।
  • चिकित्सा क्षेत्र में भी शारीरिक ऑप्रेशन के लिए लेजर इस्तेमाल होता है।

ये भी पढ़े:


Leave a Comment