बिजली के बल्ब का आविष्कार किसने किया था? (Bulb ka aavishkar)

नमस्कार दोस्तो, यदि आप जानना चाहते हैं कि बल्ब का आविष्कार किसने किया था (Bulb ka aavishkar kisne kiya tha) तो आपको इस पोस्ट में सारी जानकारी मिलने वाली है।

बल्ब क्या होता है?

बल्ब एक ऐसा यंत्र होता है जो अंधेरे में रोशनी प्रदान करता है। जब आप बल्ब को बिजली के साथ जोड़ देते हैं तो आप इसका इस्तेमाल करके कहीं पर भी रोशनी कर सकते हैं।

बल्ब के अंदर एक तार होता है, जब उस तार को बिजली मिलती है, तो वह तार गर्म होकर रोशनी प्रदान करता है।

बल्ब का आविष्कार किसने किया था?

Bulb Ka Aavishkar Kisne Kiya Tha:

हमारे दैनिक जीवन में हमेशा इस्तेमाल होने वाले बल्ब का आविष्कार थॉमस ऐल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) ने किया था।

थॉमस ऐल्वा एडिसन एक काफी मसूर वैज्ञानिक थे, जो अपने अलग-अलग तरह के प्रयोगों के लिए काफी ज्यादा चर्चा में रहते थे। यह एक अमेरिकी आविष्कारक थे जिनका जन्म 11 February 1847 को Milan, United States में हुआ था।

थॉमस ऐल्वा एडिसन ने अपने एक प्रयोग के दौरान ही बल्ब का आविष्कार किया था। 

थॉमस ऐल्वा एडिसन ने जब वह प्रयोग किया था, तब उन्होंने यह नहीं सोचा होगा कि वह जिस चीज का आविष्कार कर रहे हैं वह आगे चलकर इंसानों के जीवन का एक हिस्सा बनने वाली है तथा इंसानों के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका होने वाली है।

बल्ब का आविष्कार कब हुआ था ?

थॉमस ऐल्वा एडिसन के द्वारा बल्ब का आविष्कार सन 1879 में किया गया था।

थॉमस ऐल्वा एडिसन उस समय के काफी बड़े वैज्ञानिक थे तथा उनका विज्ञान के क्षेत्र में काफी अहम योगदान है।

बिजली के Blub Ka Aviskar तो थॉमस ऐल्वा एडिसन के द्वारा किया गया था लेकिन आखिर इस का आविष्कार कैसे हुआ था, इसके बारे में आपको नीचे जानकारी दी गई है :-

बल्ब का आविष्कार कैसे हुआ था ? (Blub Ka Aviskar Kese Hua)

थॉमस ऐल्वा एडिसन सन 1879 में एक प्रयोग कर रहे थे, उन्होंने अपने प्रयोग के दौरान कार्बन फिलामेंट के साथ विद्युत धारा को प्रवाहित किया और उन्होंने अपने प्रयोग के दौरान पाया कि वह कार्बन फिलामेंट गरम होकर रोशनी प्रदान कर रहा है, और उसके बाद आगे चलकर बल्ब का नाम दिया गया था और आज यह हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

किसी भी बल्ब के अंदर जो एक वायर होता है, जिसके जलने पर उस बल्ब से रोशनी निकलती है, वह कार्बन फिलामेंट का ही बना होता है।

बल्ब के आविष्कार के पीछे क्या उद्देश्य था ?

जैसा कि दोस्तों हमने आपको इस पोस्ट में बताया कि थॉमस ऐल्वा एडिसन ने सन 1879 में बिजली के बल्ब की खोज की था,  लेकिन 1879 से लगभग पहले 200 साल पहले ही बिजली से रोशनी प्राप्त करने का विचार आ गया था।

पहली बार बिजली के माध्यम से रोशनी प्रदान करने का विचार हम्फ्रे डेवी के मन में आया था। उसके बाद अनेक वैज्ञानिकों ने इस पर रिसर्च की तथा बिजली से रोशनी प्राप्त करने की कोशिश की लेकिन अंत में सफलता थॉमस ऐल्वा एडिसन को ही मिली, जिसके कारण उन्हें बल्ब का जनक भी कहा जाता है।

थॉमस ऐल्वा एडिसन के द्वारा बल्ब का आविष्कार करने के पीछे यही उद्देश्य था, कि वह बिजली से रोशनी प्राप्त करना चाहते थे।

ये भी पढ़े:

आज आपने क्या सीखा

तो दोस्तों आज आपने इस पोस्ट के माध्यम से जाना की बल्ब का आविष्कार किसने किया था,(Bulb ka aavishkar kisne kiya tha) इसके अलावा हमने आपको बल्ब से जुड़ी अन्य जानकारियां भी दी है।

हमें उम्मीद है कि आप हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी पसंद आई होगी, और आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला होगा।

Leave a Comment