बिजली का आविष्कार किसने किया और कब ?

दोस्तों हम इस लिख में आपको बतएंगे की बिजली का आविष्कार किसने किया (bijli ka avishkar kisne kiya) और भारत में सबसे पहले vidyut ka aviskar kisne kiya और कहा किया था.

बिजली का आविष्कार किसने किया (bijli ka avishkar kisne kiya)

बिजली का अविष्कार एक ऐसा अविष्कार है, जिसने पूरी दुनिया को बदल दिया हैं I बिजली के पहले कई अविष्कार हुए जिसमे  आग की खोज, तेल की खोज हुई, लेकिन बिजली के आने के बाद लोगो की लाइफस्टाइल के साथ साथ उद्धयोग जगत में क्रांति आई है I हम आपको बताते है, की सर्वप्रथम बिजली का अविष्कार किसने किया है I 

बिजली का आविष्कार कब हुआ

ऐसा माना जाता है, की बिजली की खीज लगभग 600 वर्ष हुयी थी। लेकिन जिस बिजली को आज हम उपयोग में लेते है, वह निरंतर क्रमिक विकास का परिणाम है। बताया जाता है, की सबसे पहले यूनान के महान दार्शनिक और भौतिक विज्ञानी थेल्स ने जाना था, की चीड़ के वृक्ष का सड़कर जमने वाला रस रगड़ने पर विद्युत ऊर्जा प्रदान करता है I लेकिन उसके बाद कई प्रयोगों के द्वारा बिजली को बनाया गया था I 

बिजली को वास्तविक रूप में खोजने का श्रय बेंजामिन फ्रैंकलिन को दिया जाता है। उसके बाद 1930 के दशक में वैज्ञानिको द्वारा कई शोधकर्ताओं की मदद से तांबे के बर्तन से प्राचीन बैटरी बनाने का कार्य किया गया, जिसका उपयोग उस समय प्राचीन रोमन स्थलों को रोशन करने के लिए किया जाता था I

इस तरह के उपकरण बगदाद की खुदाई में बी प्राप्त हुए थे, माना जाता है, की उस समय इनका उपयोग लोग बैटरी के लिए उपयोग करते थे I 

बिजली का अविष्कार कहा हुआ था

आपको बता दे की बिजली का आविष्कार 1831 में जब माइकल फैराडे ने इलेक्ट्रिक डायनेमो का आविष्कार करके किया था I उस समय इस तरह की बिजली का उपयोग तकनीक के लिए किया जाने लगा। उसके बाद से बिजली पैदा करने की समस्या दूर हो गई।

उन्होंने इलेक्ट्रिक डायनेमो में एक चुंबक के माध्यम से तांबे के तार की एक कुंडली में घुमाते हुए थोड़ी मात्रा में विद्युत प्रवाह उत्पन्न किया। उसके अनुसार बिजली के क्षेत्र में कई प्रयोग हुए और उस बिजली से चलने वाले नए उपकरण बनाए गए जिसका उपयोग लोग करने लगे I 

वहु कुछ समय बाद 1878 में थॉमस एडिसन और उनके सहयोगियों ने फिलामेंट लाइट बल्ब का आविष्कार किया, जो की बिलजी के द्वारा रौशनी प्रदान करने में सक्षम रहे । 

इसे भी पढ़े: बिजली के बल्ब का आविष्कार किसने किया था

भारत में light ka aavishkar kisne kiya

जब बिलजी का अविशाक्र दुनिया में हो चूका था उसके बाद भारत में इसका उपयोग शुरु हुआ था I आपको बता दे की तीसरी औद्योगिक क्रांति के बाद भारत में बिजली का कार्य शुरू किया गया I सबसे पहले भारत में बिजली बनाने की शुरुआत 1899 में कलकत्ता में की गयी, यह कार्य कलकत्ता इलेक्ट्रिक सप्लाई कॉरपोरेशन कम्पनी द्वारा किया गया I 

वही डीजल के माध्यम से भारत में बिजली का उत्पादन 1905 में दिल्ली में शुरू किया गया I इससे पहले मैसूर में 1902 में पानी के माध्यम से विद्युत उत्पादन केंद्र बनाया गया था, जो की सफल रहा था I 

इन सभी के बाद में भारत में बिलजी बनाने के लिए लिएय 1910 में इंडियन इलेक्ट्रसिटी एक्ट लागू किया गया। उसके बाद 1926 में आजादी के पहले इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई एक्ट लागू किया गया। भारत में उस समय 60% बिजली उत्पादन निजी कंपनियों के द्वारा किया जाता था I

देश में उस समय 1362 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता था, लेक्नी उस समय मांग काफी कम थी, क्युकी बिजली का उपयोग करने के लिए किसी के पाद बिजली के उपकरण नही थे I 

भारत में आजादी के बाद 1948 में बिजली क्षेत्र में कानून बनाने का प्रस्ताव आया, जिसके बाद से आज तक इसमे कई कानून सह्मिल कर पुरे देश में बिजली को संचालित किया जाता है ।

बिजली के जन्मदाता किसे माना जाता है I 

बिजली के प्रयोग में कई लोग शामिल हुए है, लेकिन वास्तविक रूप में, आधुनिक रूप से बिजली के जन्मदाता माइकल फैराडे को माना जाता है, जिन्होंने तार के कुंडल के पास एक चुंबक को ले जाकर विद्युत प्रवाह उत्पन्न किया और उसके बाद इससे जनरेटर पैदा हुआ था। जिसने बिलजी क रूप लिया और उसका उपयोग पूरी दुनिया में होने लगा I 

इसे भी पढ़े: टेलीविजन का आविष्कार किसने किया था

आज हमने क्या सीखा

हमने इस लेख में जाना की बिजली का आविष्कार किसने किया (bijli ka avishkar kisne kiya) और भारत में सबसे पहले light ka aavishkar kisne kiya.

Leave a Comment